इन 3 भारतीय बल्लेबाजों को, दुनिया का कोई भी गेंदबाज वनडे क्रिकेट में नहीं कर पाया OUT

दोस्तो ये बात हम और आप सभी बहुत अच्छे से जानते है, की क्रिकेट जगत में ऐसे बहुत से बल्लेबाज देखने को मिले है, जिन्होंने क्रिकेट में रनो और शतको को बारिश की है। लेकिन दोस्तो इन सब में क्या आप ये जानते है, की वनडे की दुनिया में हमारे सामने कुछ ऐसे खिलाड़ी भी है, जिन्हे आज तक कोई गेंदबाज आउट नही कर पाया। और आज हम आपको ऐसे ही 3 बल्लेबाज़ों के बारे में बताने जा रहे है, जो वनडे में कभी आउट नही हुए।


दोस्तो इस लिस्ट का पहला ना सौरभ तिवारी है। दोस्तो क्या आप जानते है, की सौरभ तिवारी ने जब इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था, तब उन्हे धोनी का डुप्लीकेट कहा जाता था। क्योंकि उस दौरान सौरभ तिवारी के बाल भी धोनी की ही तरह लंबे लंबे हुआ करते थे। और आईपीएल के जरिए ही उन्होंने दमदार प्रदर्शन करके भारतीय टीम में जगह बनाने में कामयाब रहे। बता दे, की सौरभ तिवारी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साल 2010 में वनडे डेब्यू किया था।

तब उस समय सौरभ तिवारी में भारतीय टीम के लिए मात्र 3 वनडे मैच ही खेले थे। जिसमे उन्हे सिर्फ 2 पारियों में बल्लेबाजी करने का मौका मिला था। हालाकि दोनो ही पारियों में सौरभ नॉट आउट साबित हुए थे, लेकिन इसके बाद ही उन्हे टीम से बाहर कर दिया गया था।


दोस्तो इस लिस्ट का दूसरा नाम फैज फजल है। दोस्तो अगर इस खिलाड़ी की बात करे, तो इन्होने घरेलू क्रिकेट में खेलते हुए अपने प्रदर्शन से काफी लोगो को अपनी ओर आकर्षित किया है। और इसी वजह से उन्हे बहुत जल्द भारतीय टीम में खेलने का मौका भी दिया गया था। लेकिन इस दौरान फैज को भारतीय टीम के लिए मात्र 1 वनडे खेलने का मौका दिया गया था। जहां साल 2016 में जिमवाब्बे के खिलाफ खेले गए इस मैच में फैज ने दमदार 55 रनो की साझेदारी की थी।

लेकिन दोस्तो इसके बावजूद उन्हे इस बेहतरीन प्रदर्शन के बाद टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया था। और तब से आज तक वे भारतीय टीम में वापिस आने का इंतजार कर रहे है।
दोस्तो इस लिस्ट का तीसरा और आखरी नाम भरत रेड्डी है।

दोस्तो भरत रेड्डी का नाम शायद ही आज कल के युवा लोग जानते होगे, और इन्हे भारत के लिए मात्र 3 वनडे मैच खेलने का मौका दिया गया था। आपको बता दे, की भरत ने भारतीय टीम के लिए 1978 से 1981 तक मात्र 3 वनडे मैचों में ही शिरकत करी है। जिसमे उन्हे सिर्फ दो बार बल्लेबाजी करने का नसीब मिला। और दोनो ही मैचों में भरत नाबाद साबित हुए। लेकिन फिर बाद में उन्हे भारतीय टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया, और इसी के साथ भरत के कैरियर का अंत बहुत ही दुखदाई तरीके से हो गया।

0