ये 3 भारतीय खिलाड़ी 2 देशों के लिए खेल चुके हैं क्रिकेट, एक तो भारत के कप्तान भी रह चुके हैं !

भारतीय इतिहास में काफी महान क्रिकेट खिलाड़ी साबित हुए हैं। लेकिन अधिकतर खिलाड़ियों ने सिर्फ भारत की ओर से क्रिकेट खेला है लेकिन कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जो भारत के तरफ से क्रिकेट खेलने के साथ-साथ दूसरी टीम की ओर से भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने लगे। आज हम आपको ऐसे ही कुछ खिलाड़ी के बारे में बताएंगे।

सामान्य तौर पर देखें तो पूरे विश्व में क्रिकेट टीम में काफी ऐसे खिलाड़ी देखने को मिलेंगे जो दूसरे देश के निवासी रहे हैं। लेकिन फिर अलग देश में आकर वहां की क्रिकेट टीम के साथ जुड़ गए और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने लगे। इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका की टीम में काफी ऐसे खिलाड़ी हैं जो बाहर से आए हैं। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया वेस्टइंडीज की टीम में भी काफी विदेशी खिलाड़ी आकर उनकी तरफ से क्रिकेट खेलने लगे।

कुछ समय पहले भारतीय अंडर-19 वर्ल्ड कप जिताने वाले उन्मुक्त चंद भारत में क्रिकेट से संन्यास लेकर अब अमेरिका की ओर से क्रिकेट खेलने लगे हैं। हालांकि वह एक प्रोफेशनल क्रिकेटर के तौर पर खेल रहे हैं। लेकिन इतिहास में तीन ऐसे खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने भारत की ओर से क्रिकेट खेला इसके अलावा दूसरे देश की तरफ से भी क्रिकेट खेलने हैं।

इफ्तिखार अली खान पटौदी

इफ्तिखार अली खान पटौदी मशहूर मसूर अली पटौदी के पिता है। 1946 में यह भारत की ओर से इंग्लैंड खेलने के लिए गए थे और उस समय भारतीय टीम के कप्तान भी थे। 1935 और 1936 में खान पटौदी इंग्लैंड के लिए क्रिकेट खेल चुके थे।

आमिर इलाही

आमिर इलाही ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत भारत की तरफ से खेलते हुए की थी लेकिन इसके बाद जब भारत आजाद हुआ तो वह पाकिस्तान में चले गए और 1952 और 1953 में पाकिस्तान की ओर से क्रिकेट खेला। वहां पर क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुने गए थे।

गुल मोहम्मद

गुल मोहम्मद ने मात्र 17 वर्ष की उम्र में भारत की ओर से क्रिकेट खेलना शुरू किया था। लेकिन 1955 में उन्होंने पाकिस्तान की नागरिकता ले ली। फिर पाकिस्तान की ओर से ही टेस्ट मैच खेलने लगे।