इन 5 भारतीय खिलाड़ियों को रिलीज़ करके, IPL फ्रेंचाइजी ने कर दी बड़ी गलती !

दोस्तों आईपीएल हर साल आते है। और दर्शकों का बेहद मनोरंजन करते है। लेकिन आज हम बात करेगे, आईपीएल के उन खिलाड़ियों को जिनको आईपीएल टीम में लेकर फ्रेंचाइजी ने गलती की। दोस्तो आपको बता दे, की आईपीएल शुरू होने के पहले टीम में खिलाड़ियों को चुनना सबसे मुश्किल काम होता है।

इसके अलावा पहले भी कई हर फ्रेंचाइजी से आईपीएल टीमों में खिलाड़ियों को चुनने में गलती हुई है। फ्रेंचाइजी द्वारा रिलीज किए गए, खिलाड़ी में कुछ साल बाद या उसी सीजन में हमे गलती दिखाई दी जाती है। आज हम बात करेगे, उन 5 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जिन्हे फ्रेंचाइजी द्वारा रिलीज नहीं किया जाना चाहिए।


दोस्तों पहले हम बात करते है, केएल राहुल के बारे में जिनका नाम भारतीय खिलाड़ियों के पसंदीदा नामो में शामिल होता है। लेकिन मानना है, की उन्हे इस साल फ्रेंचाइजी द्वारा रिलीज नहीं किया जाना चाहिए था। लेकिन आईपीएल 2018 में आरसीबी किब्तारफ से उन्हे पहले नीलामी में रिलीज कर दिया था।

लेकिन आपको बता दे, की बैंगलोर ने उन्हें वापिस खरीदने की कोशिश भी की थी, लेकिन पंजाब किंग्स द्वारा ये बोली आगे निकल गई थी, और फिर आरसीबी उन्हे खरीद नहीं पाई। जिसके बाद पंजाब किंग्स ने उन्हें साइन कर लिया। बता दे, की पंजाब किंग्स की टीम में जुड़ने के बाद से ही केएल राहुल बेहतरीन बल्लेबाजी की लिस्ट में अपना नाम शामिल कर चुके है।

आरसीबी द्वारा रिलीज किए जाने पर केएल राहुल पंजाब किंग्स के लिए लगभग हर सीजन में 500 से अधिक रन बनाकर। अच्छे खिलाड़ियों में शामिल होते है। अगर आज राहुल आरसीबी में होते तो, उनके साथ बहुत अच्छे बल्लेबाज खिलाड़ी होते। और साथ ही फ्रेंचाइजी की बहुत समस्याओं का निवारण भी हो जाता। जैसे आईपीएल 2022 के लिए टीम में एक नया कप्तान और एक विकेटकीपर की जरूरत नहीं पड़ती।


अब हम आगे बात करेगे, सूर्य कुमार यादव को जो की पहले केकेआर टीम के उप कप्तान हुआ करते थे। सूर्य कुमार यादव 2014 से 2017 तक केकेआर की टीम से जुड़े थे। इसी दौरान उन्होंने अभी तक के किसी भी सीजन में 200 रनों का आंकड़ा तक पर नहीं किया। लेकिन 2018 में जब उन्होंने मुंबई इंडियंस में अपने कदम रखे, तब से अभी तक हर सीजन में 400 से ज्यादा रन बनाए। बता दे, केकेआर में सूर्य कुमार यादव को सही ढंग से इस्तेमाल नहीं किया गया। और बहुत बार निचले स्तर पर खिलाया गया।

बल्कि इस बात पर वर्तमान कप्तान गौतम गंभीर ने भी इस बात स्वीकारा है, की हम सूर्य कुमार यादव को अच्छी पोजिशन नही दे पा रहे है।
आगे बात करते है, अंबाती रायडू की जो की मुंबई इंडियंस में शरीक हुए, बता दे, की मुंबई इंडियंस ऐसी टीम है, जिससे कभी खिलाड़ियों की नीलामी में गलती नही होती, लेकिन 2018 में उन्होंने अंबाती रायडू को रिलीज करके बहुत बड़ी गलती कर दी थी। लेकिन उनकी इस गलती का प्रभाव उन्हे कुछ समय बाद पता चला।

क्युकी उसी सीजन में अंबाती रायडू ने 602 रन बनाकर सीएसके को खिताब जिताने में मदद की। आपको बता दे, की अगर अंबाती आज टीम मुंबई में होते, तो उन्हे ईशान किशन या सूर्य कुमार यादव के फेल होने पर अंबाती रायडू का एक ऑप्शन आसानी से मिल सकता था। इसके अलावा किसी और खिलाड़ी को खेलते वक्त चोट लगने पर भी वो us खिलाड़ी के बदले अपना प्रदर्शन कर सकते थे।


आगे हम बात करेगे, राहुल त्रिपाठी के बारे में, जो की राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा है। आपको बता दे, की राहुल उन भारतीय खिलाड़ी के से एक है, जो मैच में अपने प्रदर्शन से ही दर्शकों को अपना फैंस बना लेते है। बता दे, फ्रेंचाइजी द्वारा इन्हे रिलीज नहीं करना चाहिए था, की राजस्थान द्वारा इन्हे रीलीज कर दिया गया। राजस्थान रॉयल्स से केकेआर में आने के बाद राहुल अपना जलवा दिखा रहे है।

अब तक उन्होंने एक शानदार बल्लेबाजी करते हुए, खुद को मैच में कायम रखा है। और बताते चले की राहुल ने अपनी फ्रेंचाइजी के लिए बहुत अच्छी फील्डिंग भी की है। आपको बता दे, की अगर आज राजस्थान के पास राहुल जैसे शानदार खिलाड़ी होते, तो उन्हे मैच में एक दिग्गज खिलाड़ी के रूप में बहुत सहायता मिलती।
अब हम बात करेगे, अपने अगले और आखरी खिलाड़ी, वरुण चक्रवर्ती के बारे में, जो की पंजाब किंग्स का हिस्सा है।

बता दे, की पंजाब किंग्स ने 2019 में दो गलतियां की। पहला तो वरुण को 8 करोड़ रुपए देकर खरीदा। और फिर उन्हें इतने पैसे देकर भी खेलने के अच्छे मौके नही दिए। आपको बता दे, की इस सीजन में उन्होंने सिर्फ एक मैच खेला।

और सिर्फ 3 ओवर फेकने को मिले। लेकिन यह माना जाता है, की 8.40 करोड़ की मोटी रकम लेकर फ्रेंचाइजी उन्हे अपने साथ कर सकती थी। लेकिन आईपीएल 2018 में उनके पास इतने पैसे तो थे, की आईपीएल 2020 उन्हे रिटेन वापिस दे सके। तो दोस्तो ये थे हमारे कुछ भारतीय खिलाड़ी जिन्हे फ्रेंचाइजी ने टीमों में लेकर गलतियां की।