5 ऐसे खिलाड़ी जो शारीरिक अक्षमता के बाद भी एक शानदार क्रिकेट खिलाड़ी बने !

क्रिकेट में किसी भी खिलाड़ी के लिए फिटनेस बहुत जरूरी होती हैं । अगर कोई खिलाड़ी एक पैर या हाथ न हो, या फिर कुछ अंगुलियां न हों, तब क्या कोई खिलाड़ी खेल सकता है आपका जबाव शायद ना ही होगा । लेकिन बहुत से ऐसे भी क्रिकेट खिलाड़ी है जिन्होंने अपनी शारीरिक अक्षमता को ताकत बनाया और उसे अपने खेल में कोई प्रभाव नहीं डालना दिया । आज के इस पोस्ट में हम ऐसे ही 5 खिलाड़ी के बारे में बात करने वाले है जो शारीरिक रूप से अक्षम होने के बावजूद एक शानदार खिलाड़ी बने।

1) टोनी ग्रेग

टोनी ग्रेग इंग्लैंड के लिए एक शानदार ऑल राउंडर थे । बहुत ही कम लोग जानते हैं कि टोनी ग्रेग मिर्गी के रोगी थे। इसके बावजूद भी क्रिकेट में एक शानदार कैरियर बनना में सफल रहे । उन्होंने इंग्लैंड के 1975 से लेकर 1977 तक कप्तानी भी की थी ।

2) लेन हट्टन

लेन हट्टन इंग्लैंड के एक दिग्गज बल्लेबाज थे । आपको बता दे उनके एक हाथ, दूसरे हाथ से करीब दो इंच छोटा था। उन्होंने इंग्लैंड के लिए कुल 79 टेस्ट मैचों में 19 शतक लगाए थे । उनका व्यक्तिगत सर्वाधिक स्कोर 364 रनों का था ।

3) मार्टिन गुप्टिल

मार्टिन गुप्टिल आज के समय दुनिया के विस्फोटक बल्लेबाजों में से एक है । आपको बता दे मार्टिन गुप्टिल का एक एक्सिडेंट के कारण पैर के 3 उंगली नहीं है । इसके बाद भी उन्होंने क्रिकेट में काफ़ी अच्छी सफलता प्राप्त की ।

4) मंसूर अली खान पटौदी

मंसूर अली खान पटौदी भारतीय टीम के लोकप्रिय खिलाड़ियों में से एक रहे हैं । आपको बता दे एक एक्सिडेंट के दौरान उनकी एक आंख की रोशनी चली गई थी जिसके बाद भी उन्होंने क्रिकेट नहीं छोड़ी और एक आंख से खेलना जारी रखा। इंग्‍लैंड के खिलाफ उन्होंने टेस्‍ट में डबल सेंचुरी ठोकी। इसी जज्‍बे की वजह से उन्हें टाइगर भी कहा जाता था।

5) भागवत चंद्रशेखर

भागवत चंद्रशेखर भारत के शानदार लेग स्पिनर में से एक थे मगर ये बहुत ही कम लोगों को पता होगा कि वह पोलियोमाइलाइटिस से पीड़ित थे। इसके बाद भी उन्होंने क्रिकेट खेलना जारी रखा और भारत के लिए 58 मैचों में 242 विकेट के साथ अपना एक शानदार करियर समाफ्ट किया ।