एक ही मैच में 9 स्टंपिंग कर इस खिलाड़ी ने धोनी, संगकारा और गिलक्रिस्ट को पछाड़ा

चाहे भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हो या ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर एडम गिलक्रिस्ट या श्रीलंका के कुमार संगकारा या फिर साउथ अफ्रीका के मार्क बाउचर, इन सभी दिग्गज खिलाड़ियों ने विकेट के पीछे बतौर विकेटकीपर कई कीर्तिमान दर्ज किए हैं। अपनी तेजतर्रार स्टंपिंग और कमाल के रन आउट के लिए एम एस धोनी तो हमेशा ही जाने जाते रहे हैं।

उन्होंने अनेकों बार अपनी सूझ बूझ के दम पर भारत को मैच में वापसी कराई है। लेकिन आज हम एक ऐसे विकेटकीपर के बारे में बात करेंगे जिन्होंने वह कमाल किया था जो धोनी, संगकारा, गिलक्रिस्ट और मार्क बाउचर जैसे महान विकेटकीपर भी अपने करियर में कभी नहीं कर सके।

इंग्लैंड में जन्म लेने वाले फ्रेड हुईश ने आज ही के दिन 23 अगस्त,1911 को एक घरेलू मैच के दौरान रिकॉर्ड 9 खिलाड़ियों को स्टंप आउट करके विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। केंट की तरफ से खेलने वाले इस विकेटकीपर में सरे के खिलाफ एक काउंटी मैच में यह कीर्तिमान किया था। ओवल के मैदान में खेले गए इस मैच में उन्होंने कुल 10 शिकार किए थे जिसमें से 9 स्टंप आउट था और एक कैच।

फ्रेंड ने साल 1895 में 25 साल की उम्र में अपना प्रथम श्रेणी डेब्यू किया था। साल 1911 में तो एक ही सीजन के दौरान उन्होंने 100 शिकार किए थे। फ्रेड केंट के चार चैंपियनशिप जीत का भी हिस्सा रह चुके है।

फ्रेड हुईश उन बदकिस्मत क्रिकेट खिलाड़ियों की सूची में शामिल है जिन्होंने प्रथम श्रेणी में लगातार कई अच्छे प्रदर्शन किए मगर फिर भी कभी अपने देश के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल पाए। फ्रेड ने प्रथम श्रेणी में कुल 497 मुकाबले खेले जिनकी 726 पारियों में उन्होंने 7547 रन बनाए और कुल 139 बार नाबाद भी लौटे। उन्होंने इस दौरान एक भी शतक नहीं जड़ा और उनका उच्चतम स्कोर 93 रन रहा। बतौर विकेटकीपर फ्रेंड ने इन 497 मुकाबलों में 933 कैच और 377 स्टंपिंग समेत कुल 1254 शिकार किए।