3 घंटों तक लगातार गेंदबाजी की और तोड़ा खिलाड़ी का हाथ

वेस्टइंडीज ने दुनिया को कुछ ऐसे बेहतरीन तेज गेंदबाज दिए हैं जिनके सामने बल्लेबाज बल्लेबाजी करने से पहले कितना बार सोचते है जिनकी खतरनाक प्रदर्शन बल्लेबाज को चौका देता है लंबा कद, लंबा रन अप और गेंदों में गोली सी रफ्तार ये वेस्टइंडीज के गेंदबाजों का ट्रे़डमार्क स्टाइल रहा है एक ऐसे गेंदबाज जिन्होंने अपनी गेंदबाजी से बल्लेबाज का हाथ तोड़ दिया

वेस्ली हॉल यानी वेस हॉल वेस्टइंडीज के पूर्व गेंदबाज जिसकी तेज गेंदबाजी के कारन बल्लेबाज के मन में खौफ भर जाता था इनका जन्म 12 सितंबर 1937 को मशहूर कैरेबियाई द्वीप बारबडोस में हुआ था इनके पिता बॉक्सिंग करते थे इन्होने सुरु से ही क्रिकेट में ध्यान लगाया और वो अपने तेज गेंदबाजी के कारन वेस्टइंडीज टीम में चुने गए

28 नवंबर 1958 को अपना शानदा बॉम्बे टेस्ट डेब्यूर भारत के खिलाफ किया किया था जिसमे हॉल ने पहली पारी में 3 विकेट लेकर अपना शानदार प्रदर्शन दिखाया कानपुर में खेले जाने बाले मैच में हॉल ने अपना तूफानी गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए पहली पारी में 6 और दूसरी पारी में 5 बिकेट झटकाते हुए विंडीज टीम में अपनी जगह पक्की कर ली

वेस्ली हॉल लंबे रनअप और तेज रफ्तार के आलावा लंबे समय तक गेंदबाजी करने की छमता भी रखते थे 1963 के लॉर्ड्स टेस्ट में. इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी दिन हॉल ने लगातार 3 घंटे से भी ज्यादा वक्त तक एक तरफ से गेंदबाजी करते रह गए इस कारन उन्होंने उस पारी में 4 विकेट लिए उस मैच में ह़ॉ़ल ने अपनी गेंद पर कॉलिन काउड्री का हाथ भी तोड़ दिया था

1960 में ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच खेले जाने बाले ब्रिसबेन टेस्ट मैच में अपना ऐतिहासिक रिकॉर्ड बनाया था इस मैच के लास्ट दिन आखिरी ओवर में ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 6 रनों की जरूरत थी और उसके पास 3 विकेट बचे हुए थे. हॉल ने लास्ट ओवर में 2 रन आउट के साथ 3 विकेट लेकर मैच को टाई कर दिया था हॉल ने उस मैच में कुल 9 विकेट लिया था

क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद हॉल ने राजनीति में भी कदम रखा इस में भी ये काफी नाम बनाया 1986 में अपनी स्थानीय काउंटी से हाउस ऑफ असेंबली के लिए चुना गया 1987 में वह बारबडोस सरकार में पर्यटन एवं खेल मंत्री भी बने