चयनकर्ता हार्दिक पंड्या को वापिस भारत भेजना चाहते थे, लेकिन धोनी की ज़िद पर बदला फैसला !

आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में 24 अक्टूबर को हुए मैच से पूरा भारत शोक मना रहा था। क्योंकि इसी दिन भारत और पाकिस्तान के बीच हुए मैच में भारत को पहली बार पाकिस्तान से हार मिली थी। और उस समय दर्शक इस हार से बहुत ज्यादा दुखी थे। और हर तरफ भारत की हार लोग बेहद परेशान नजर आ रहे थे। लेकिन फिलहाल इस दुख से दर्शक बाहर आ चुके है।

लेकिन एक चर्चा जो अभी भी लोगो के दिल और दिमाग में है, की हार्दिक पंड्या को प्लेइंग इलेवन में जगह मिलेगी या नहीं, हाल ही में आई खबर के मुताबिक करे, तो हार्दिक को भारतीय टीम में एक ऑलराउंडर खिलाड़ी के रूप में शामिल किया गया था। हार्दिक पंड्या ऑलराउंडर सिकल्स से अच्छी तरह से परिचय है। लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ हुए मैच में हार्दिक पंड्या अपना खास प्रदर्शन नहीं कर पाए। जिससे दर्शकों को और खिलाड़ियों को उनकी बहुत कमी महसूस हुई।

बता दे, की फिलहाल हार्दिक इस मैच में ही नहीं, बल्कि पिछले कुछ दिनों से सभी मैचों में अपनी गेंदबाजी से किसी को खुश नही कर पा रहे है। उनके पीठ पर लगी चोट के कारण के वो ठीक से नही खेल पा रहे है। जिसके चलते अब आलम ये है, की उन्हे टीम से बाहर करने की चर्चाएं सामने आने लगी है। बता दे, की भारत के स्टार खिलाड़ी के रूप में जाने वाले हार्दिक पंड्या पिछले कुछ दिनों से अपनी चोट की वजह से बेहद परेशान है। और अपने खेल को सही ढंग से खेलने में चूक रहे है।

ऐसे में भारतीय क्रिकेट चयनकर्ताओं ने हार्दिक को टीम से बाहर करने का निर्णय बना लिया है। इसी समस्या के चलते हार्दिक को भारत वापिस भेजा रहा था। लेकिन भारतीय टीम के पूर्व स्टार खिलाड़ी धोनी ने चयनकर्ताओं को ये फैसला लेने से रोक लगा दी। मतलब हार्दिक का सफर वर्ल्ड कप से खत्म होने वाला था। लेकिन धोनी ने ऐसा नहीं होने दिया।

टाइम्स ऑफ इंडिया के जरिए मिली खबर के अनुसार धोनी ने हार्दिक के वापिस भेजने पर विरोध किया। धोनी के चयनकर्ताओं से बात की, और उन्हे समझाया की हार्दिक को फिनिशिंग स्किल्स भारतीय टीम के काफी कम आ सकती है। जिसके बाद चयनकर्ताओं ने कहा, की सच तो ये है, की आईपीएल में गेंदबाजी ना करने के बाद सेलेक्टर्स उन्हे भारत वापिस भेजना चाहते थे। लेकिन धोनी के पंड्या पर अपना भरोसा बनाए रखा। और उन्हें भारत जाने से रोक लिया।