अपने देश इंग्लैंड की टीम छोड़ IPL खेलने पर आग-बबूला हुआ ये दिग्गज़, बोला- ‘पैसे के भूखे हैं सब..’

दोस्तो आप तो जानते ही है, की ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच एशेज सीरीज का मुकाबला हुआ जिसमे इंग्लैंड 3 मैचों में हार चुकी है। और इंग्लैंड के इसी खराब प्रदर्शन के चलते पूर्व कप्तान माइकल ऑथर्टन ने बताया, की देश के खिलाड़ियों को आईपीएल में खेलने के लिए इंटरनेशनल खिलाड़ियों से दूर नही रहना चाहिए। दोस्तो इंग्लैंड टीम शुरुवात में ही 3 मैचों में हार चुकी है।

और ऑस्ट्रेलिया से 5 मैचों की इस एशेज सीरीज को अपने हाथो से गवा बैठी है। और टीम के इस निराशजनक प्रदर्शन के चलते पूर्व खिलाड़ी टीम की काफी आलोचना कर रहे है। माइकल ऑथर्टन ने द टाइम्स में लिखा की खिलाड़ियों को आईपीएल में खेलने के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट से दूरियां नही बनानी चाहिए। न ही कही और खेलने के लिए आराम दिया जाना चाहिए, और न ही उन्हे रोटेट करना चाहिए।

आईपीएल के बारे में बात करते हुए, इन पूर्व कप्तान ने इंटरनेशनल लेवल के लाल गेंद वाले फॉर्मेट में इस टीम को बेहद सुधार लाने की बात कही। ऑथर्टन ने कहा, की कई फॉर्मेट में खेलने वाले मेन खिलाड़ियों को 7 डिजिट में रकम दी जाती है लेकिन अजीब है कि साल के 2 महीने आईपीएल के दौरान ईसीबी उनसे हाथ धो बैठता है। माइकल ऑथर्टन ने आगे बताया, की खिलाड़ियों को ये जानकारी दी जानी चाहिए।

की ईसीबी आईपीएल में खेलने के गुजारिश पर विचार जरूर करेगा। लेकिन उनका कॉन्ट्रैक्ट पूरे 12 महीने का है। और आईपीएल और दूसरी फ्रेंचाइजी बेस्ड टूर्नामेंट में खेलने के लिए एनओसी दिया जाना इस बात पर निर्भर करता है, की ये इंग्लैंड टीम के हित में हो। इंग्लैंड की 1993 से 2001 के बीच 54 टेस्ट में कप्तानी करने वाले माइकल आथर्टन का मानना है कि 5 दिन के फॉर्मेट में बेन स्टोक्स मौजूदा कप्तान जो रूट की जगह लेने के लिए व्यावहारिक विकल्प हैं।

पिछले साल बल्ले से शानदार प्रदर्शन करने वाले रूट की आस्ट्रेलिया में कप्तानी को लेकर आलोचना हुई है। माइकल ऑथर्टन ने लिखा, की चयन से लेकर रणनीति बनाने तक इतनी ज्यादा गलतियां हुई है, की कप्तान को खुद ही इन सब की जिम्मेदारी लेने की जरूरत है। रूट अगर मैदान में चीजो को सही तरीके से करते, तो ये सीरीज उनके बेहद नजदीक होती। और इसके साथ ही ऑथर्टन ने ये भी कहा, की टीम के मुख्य कोच सिल्वरवुड को अब टीम से बाहर निकालने का समय आ गया है।