मैं कॉमेंट्री शहीद जवानों के बच्चों को पढ़ाने के लिए करता हूं – गौतम गंभीर

भारत के पूर्व ओपनर खिलाड़ी गौतम गंभीर अभी के समय में क्रिकेट के हर क्षेत्र से सन्यास ले चुके हैं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वह अभी के समय में राजनीति में प्रवेश कर चुके हैं और वह दिल्ली के सांसद भी हैं। गौतम गंभीर हमेशा ही अपने सामाजिक कार्यों के लिए चर्चा में बने रहते हैं।

वह हमेशा से ही गरीब परिवारों की और देश के लिए शहीद हुए जवानों की मदद करने के लिए हमेशा आगे रहते हैं। बहुत बार देखा गया है कि वह समाजिक कार्यों में हमेशा आगे रहते हैं और अपने कदम कभी पीछे नहीं हटाते हैं। लेकिन एक समय में गौतम गंभीर को कमेंट्री करने के बाद बहुत ज्यादा ट्रोल किया गया था।

गौतम गंभीर ने हाल ही में एक टीवी इंटरव्यू में कहा है कि दिल्ली डूब रही है हमारे मुख्यमंत्री कहां है। रिपोर्टर ने गौतम गंभीर से पूछा कि जब पॉल्यूशन को लेकर मीटिंग हो रही थी तब आप भी तो कमेंट्री कर रहे थे। इस पर गौतम गंभीर ने कहा कि मैं जब भी कमेंट्री करने जाता हूं तो मुझे बहुत ज्यादा कॉल किया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि जितना भी पैसा कमेंट्री कैसे आता है मैं भारत देश के लिए शहीद हुए जवानों के बच्चों को पढ़ाने के लिए डोनेट कर देता हूं।

गौतम गंभीर ने आकर बात करते हुए कहा कि हमेशा मेरी कॉमेंट्री को लेकर मुझे ट्रोल किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जब भी मैं कमेंट्री करता हूं तो उस समय लगभग तीन हजार लोगों को एक रुपए में खाना मिलता है। इसके आगे गौतम गंभीर ने कहा कि जितने भी पैसे कमेंट्री से आते हैं उनसे ना केवल गरीब परिवारों का पेट भरता है बल्कि वह सभी पैसे भारत देश के लिए शहीद हुए जवानों के परिवार और उनके बच्चों की पढ़ाई के लिए खर्च किए जाते हैं।