भारत के तीन बड़े क्रिकेट स्टेडियम 10 साल से कर रहे हैं अंतरराष्ट्रीय मैच का इंतजार

भारत में सबसे अधिक खेले जाने वाला और देखा जाने वाला खेल क्रिकेट है। क्रिकेट में ही भारत सबसे अधिक है मेहनत कर रहा है और बाकी खेलों की बात करें तो सबसे मजबूत टीम क्रिकेट की है। भारतीय क्रिकेट टीम में छोटे से लेकर बड़े शहर तक महान खिलाड़ी हुए हैं।

क्रिकेट को पूजने वाले भारत देश में काफी बड़े-बड़े क्रिकेट स्टेडियम भी हैं लेकिन 3 ऐसे स्टेडियम हैं जो पिछले 10 साल से अंतरराष्ट्रीय मैच होने का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि 10 सालों में इन स्टेडियम में एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला गया है।

बरकतुल्लाह खान जोधपुर

राजस्थान के जोधपुर में स्थित है बरकतुल्लाह खान स्टेडियम में वर्ष 2002 में आखिरी वनडे मैच खेला गया था यह मैच भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेला गया था जिसमें भारत ने वेस्टइंडीज को 3 विकेट से हराया था। राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित है s.m.s. स्टेडियम की वजह से बरकतुल्लाह खान स्टेडियम की अहमियत कम हो गई और अब इसमें एक भी मैच नहीं खेला जाता है।

कीनन स्टेडियम जमशेदपुर

जमशेदपुर के किन्नर स्टेडियम में आखिरी मैच भारत और इंग्लैंड के बीच 2006 में खेला गया था इस मैच में भारत को हार का सामना करना पड़ा था। 2006 के बाद कीनन स्टेडियम में एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला गया है इसका मुख्य कारण है रांची में स्टेडियम होना।

कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम ग्वालियर

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में स्थित कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम एक बेहद शानदार स्टेडियम है। यह स्टेडियम भारतीय क्रिकेट इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्टेडियम है जहां क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने वनडे मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दोहरा शतक लगाया था। इस मैच को भारत ने 153 रनों से जीता था। वर्ष 2010 में हुवे भारत-दक्षिण अफ्रीका के मैच के बाद इस स्टेडियम में कोई भी मैच नहीं खेला गया है। ग्वालियर के इस बेहतरीन स्टेडियम की जगह इंदौर के स्टेडियम में ले ली है तथा अब मैच इंदौर में ही खेले जाते हैं।