10 टीमों वाले IPL का क्या होगा फॉर्मेट और कितने होंगे मैच, जानें हर सवाल का जवाब यहां !

दोस्तों इन दिनों मैच का काफी बोलबाला चल रहा है। पहले आईपीएल 2021 धूम मचा रहा था। और अब टी20 वर्ल्ड कप दर्शको के दिलो में धूम मचा रहा है। ऐसे में आईपीएल के अगले सीजन के लिए फैंस के दिलों में बहुत सवाल उठ रहे है। जैसे 10 टीमों वाले आईपीएल का फॉर्मेट क्या होगा? मैच कितने होगे?

ऐसे में आज हम आपको हर सवाल का जवाब देगे। आपको बता दे, की आईपीएल 2022 से टी 20 लीग में मची की संख्या 60 से बढ़कर 74 हो गई है। और इस लीग में दो नई टीमें लखनऊ और अहमदाबाद भी जुड़ चुकी है। और इसी के साथ हर टीम की वैल्यू भी बढ़ गई है। आज हम आपको अगले सीजन में होने वाले बदलाव के बारे में बताएंगे। दोस्तों अगले साल से आईपीएल में काफी मजा आने वाला है। क्योंकि इसमें टीमों को संख्या 8 से बढ़कर 10 कर दी गई है।

इतना ही नही बल्कि अब मैचों की संख्या भी 60 से बढ़कर 74 कर दी गई है। बीसीसीआई की तरफ से सोमवार को आयोजन ऑक्शन में अहमदाबाद को सीवीसी कैपिटल ने और लखनऊ को संजीव गोयनका ग्रुप ने खरीदा। दोनो टीमों से बोर्ड को लगभग 13000 करोड़ रुपए मिलेंगे। लेकिन इन सब के लिए उन्हें इंतजार करना पड़ सकता है। हार फ्रेंचाइजी से लेकर वैल्यू में भी आमदनी बढ़ेगी। टी 20 लीग में होने वाले बदलाव को हम ऐसे समझ सकते है। दर्शकों के दिलो में जो सवाल है। उनके जवाब हमे आज मिलेंगे।


क्या नई टीम के आने के बाद मैचों की संख्या में बढ़ोतरी होगी?

पिछले सीजन में 60 मुकाबले हुए थे. अगले सीजन से 74 मुकाबले खेले जाएंगे. इससे पहले 2011 में भी 74 मुकाबले खेले गए थे. हर टीम को घर में 7 और घर के बाहर 7 मुकाबले खेलने हैं. इससे तय है कि टीमों को ग्रुप में नहीं बांटा जाएगा।

नई टीमें मेगा ऑक्शन से पहले कैसे खिलाड़ियों को रिटेन कर सकेंगी?

बीसीसीआई की ओर से हालांकि अब तक रिटेंशन को लेकर नियम जारी नहीं किए गए हैं। लेकिन एक टीम अधिकतम 4 खिलाड़ियों को रिटेन कर सकेंगी। इसमें विदेशी खिलाड़ी भी शामिल होंगे। 2 नई टीमें भी ऑक्शन से पहले 4 खिलाड़ियों को खरीद सकेंगी। 2016 में पुणे और गुजरात को भी ऐसे ही मौका दिया गया था।

टी20 लीग के कार्यक्रम और इंटरनेशनल कार्यक्रम में क्या प्रभाव पड़ेगा?

आईपीएल में मैचों की संख्या बढ़नी है और खेलने वाले खिलाड़ियाें की संख्या भी बढ़ेगी।ऐसे में टूर्नामेंट की विंडो बढ़ जाएगी।ऐसे में खिलाड़ियों को इंटरनेशनल मुकाबले खेलने के लिए कम समय मिलेगा।

8 दूसरी फ्रेंचाइजी के वैल्यू पर इसका कोई असर होगा?

बिल्कुल होगा। 2018 में जब जेएसडब्ल्यू ने दिल्ली कैपिटल्स की 50 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी तो उन्हें 1100 करोड़ रुपये देने पड़े थे नई टीमों के 7 हजार करोड़ और 5 हजार करोड़ रुपये से अधिक दाम में ऑक्शन के बाद अन्य फ्रेंचाइजी की वैल्यू में भी बढ़ोतरी होगी। जो ग्रुप नई टीमें नहीं खरीद सके हैं, वे अभी भी हिस्सेदारी खरीद सकते हैं।

बीसीसीआई को क्या 2 नई फ्रेंचाइजी से तुरंत पूरे पैसे मिल गए?

नहीं। फ्रेंचाइजी को 10 साल में यह राशि बीसीसीआई को देनी है। 11वें साल से हर फ्रेंचाइजी को कुल रेवेन्यू की 20 फीसदी राशि बोर्ड को बतौर फ्रेंचाइजी फीस देनी होगी।

टूर्नामेंट में उतरने वाले खिलाड़ियों को क्या फायदा मिलेगा?

हां। आईपीएल 2022 से पहले बोर्ड की ओर से मेगा ऑक्शन कराया जाएगा। टीमों का पर्स बढ़ाकर 95 से 100 करोड़ रुपये किया जा सकता है। अब सभी 10 टीमें खिलाड़ियों पर अधिक पैसे खर्च कर सकेंगी। खिलाड़ियों की आमदनी में होगी बढ़ोतरी।

क्या 2 नई टीम के आने से फ्रेंचाइजी की आय में बढ़ोतरी होगी?

हां। हर फ्रेंचाइजी के कमाई के 3 मुख्य सोर्स हैं। पहला, सेंट्रल पूल. यानी मीडिया राइट्स और सेंट्रल स्पॉन्सरशिप से मिलने वाली राशि दूसरा टीम स्पॉन्सरशिप और तीसरा गेट रेवेन्यू पहले सेंट्रल पूल से एक फ्रेंचाइजी को लगभग 200 करोड़ मिलते थे। अब इसके बढ़कर 270 से 350 करोड़ रुपये होने की संभावना है।

ऐसे सवाल सभी के मन में थे। आईपीएल के अगले सीजन से क्या बदलाव होगे क्या नही। अब हमे देखना होगा। की अगले सीजन में कोन सी टीम बाजी मारती है। और कोन सी टीम वापिस घर लौटती है। क्युकी इतने बदलाव के बाद आईपीएल देखने में रोमांच बढ़ेगा। और दर्शकों को भी मैच देखने में आनंद आएगा। अब ऐसे में देखना ये होगा। की कोन सी टीम अगले सीजन में आईपीएल का खिताब हासिल करेगी।