धोनी के टीम का मेंटर बनने के बाद गावस्कर को सत्ता रही है 17 साल पुरानी बात का डर

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि बीसीसीआई ने आगामी होने वाले वर्ल्ड कप के लिए बुधवार को ही अपनी टीम की घोषणा कर दी है इससे यह साफ हो गया है कि आने वाले वर्ल्ड कप में कौन खिलाड़ी खेलेंगे और कौन सी गाड़ी नहीं खेलेंगे।

इसके साथ ही बीसीसीआई ने 15 सदस्य टीम के अलावा आगामी होने वाले वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को मेंटर के रूप में चुना है। बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई टीम और महेंद्र सिंह धोनी को मेंटर के रूप में चुनने का फैसला भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली के साथ साथ सभी अन्य खिलाड़ी भी इस बात से लेकर काफी खुश नजर आ रहे हैं।

जैसे ही भारतीय टीम का वर्ल्ड कप के लिए मेंटर महेंद्र सिंह धोनी को बनाया गया तब से लेकर अब तक भारत के पूर्व खिलाड़ियों की तरफ से अलग अलग तरीके के बयान सामने आ रहे हैं। भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने भी महेंद्र सिंह धोनी को आगामी वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का मेंटर बनने के लिए बधाई दी है।

लेकिन खास बात यह रही कि उनको इस बात का भी डर सता रहा है कि महेंद्र सिंह धोनी के टीम का मेंटर बनने के बाद कोच रवि शास्त्री की कुर्सी पर कोई आंच ना आ जाए।

सुनील गावस्कर ने आज तक न्यूज़ चैनल से बात करते हुए कहा कि साल 2004 में जमा भारतीय टीम का सलाहकार बना था उस समय मेंटर को सलाहकार ही कहा जाता था। सुनील गावस्कर ने कहा कि जब मैं सलाहकार बना था तो उस टाइम की हेड कोच जॉन राइट काफी नर्वस नजर आ रहे थे

उनको इस बात का डर सता रहा था कि मैं उनकी जगह लेना चाहता हूं लेकिन ऐसा नहीं था। लेकिन इसके साथ ही सुनील गावस्कर ने यह भी कहा कि यह सब समस्या रवि शास्त्री और महेंद्र सिंह धोनी के बीच नहीं आने वाली क्योंकि रवि शास्त्री अच्छी तरीके से जानते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय टीम का कोच बनने की कोई इच्छा नहीं है।