वीडियो: भारत की हार पर खुश होने वाली टीचर को, नौकरी जाने के बाद आई अक्ल.. अब हाथ जोड़ मांग रही है माफी !

जहां एक तरफ भारत की हार से पूरा देश शोक में है। तो वही पाकिस्तान अपनी जीत से बेहद खुश है। और जश्न रहा है। बता दे, की रविवार को हुए भारत और पाकिस्तान के बीच महा मुकाबले में इतिहास में पहली बार पाकिस्तान ने भारत को हराया। जिसका जश्न पूरा पाकिस्तान बहुत धूमधाम से मना रहा है। और वहीं दूसरी तरफ भारत पहली हार से न सिर्फ भारतीय टीम बल्कि इसके खिलाड़ी, फैंस और पूरा भारत गम में डूबा हुआ है।

ऐसे में हमे एक खबर सुनने मिली थी। जिसमे भारत में रहने वाली एक स्कूल अध्यापिका जो की भारत के हारने पर उदास नहीं बल्कि भारत में रहकर पाकिस्तान के जीत का जश्न मना रही थी। दरअसल आपको बता दे, की राजस्थान के उदयपुर में रहने वाली स्कूल शिक्षिका जिसका नाम नफीसा अटारी बताया जा रहा है। उन्होंने रविवार को हुए भारत और पाकिस्तान के बीच मैच में पाकिस्तान के जीत की खुशी में जश्न मनाया। और अपने व्हाट्सएप पर हम जीत गए हम जीत गए स्टेटस लगाकर इस जीत को सभी के साथ साझा कर रही है।

अब अगर ऐसे में किसी स्कूल की अध्यापिका ही ऐसी हरकते करेगी। तो छोटे बच्चों पर क्या असर पड़ेगा। और ये शिक्षिका खुद बच्चो को क्या पढ़ाती होगी। आपको बता दे, की हमारे भारत देश जहां दूसरे स्कूलों में राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत से दिलों में राष्ट्रभक्ति की भावना फैलाते है। वहीं नीरजा मोदी जैसे स्कूल में ऐसी शिक्षिका से लोग क्या सीखते होगे? की भारत में रहकर ये महिला खुलेआम पाकिस्तान की जीत का जश्न मना रही है।

बता दे, की इस स्टेटस को जैसे ही किसी बच्चे के अभिभावकों ने देखा, उन्होंने तुरंत शिक्षिका से पूछा, की आप पाकिस्तान की तरफ हो क्या? जिस पर मैडम ने भी जवाब में हां बोला। जिसके जवाब ने पूरे उदयपुर में गुस्से की लहर दौड़ गई। इस घटना के बाद एक बड़ा सवाल सामने ये आता है, की जो अध्यापिका सोशल मीडिया पर ऐसे खुलेआम पाकिस्तान की तरफदारी करेगी।

वो बच्चो को क्लास में क्या शिक्षा दे रही होगी? लेकिन बाद के जब हमने मैडम से मुलाकात करके उनसे बातचीत की। तब मैडम ने इस स्टेटस को सिर्फ एक मजाक बताया। और बताया, की मेने ये स्टेटस सिर्फ मजाक में डाला था। लेकिन हमारा मानना है, की पाकिस्तान के सपोर्ट में ऐसे स्टेटस डालना और बाद में पूछे जाने पर हां बोलना ये मजाक तो नही लगता।

लेकिन इस विवाद के चलते स्कूल प्रबंधन ने अध्यापिका को नौकरी से बाहर निकाल दिया। और इस पूरे वाक्या में मैडम को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा। दोस्तो भले ही भारतीय टीम इस बार हार गई हो। लेकिन हमे हमारी भारतीय टीम और उसके खिलाड़ियों पर पूरा विश्वास है, की भारतीय टीम एक बार पूरे जोश के साथ मैदान में उतरेगी। और दूसरी टीमों के साथ बराबरी से मुकाबला करेगी।