वीडियो : अंपायर के नॉट आउट देने के बावजूद, भारतीय महिला क्रिकेटर पूनम लौटी पवेलियन

भारत और ऑस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेट टीम के बीच इस वक्त चल रही प्रथम पिंक बॉल टेस्ट में भारत ने पहले दिन बहुत अच्छी बल्लेबाज़ी करते हुए एक अच्छा स्कोर खड़ा किया है। भारतीय बल्लेबाज स्मृति मंधाना ने पहले दिन 127 रन की जबर्दस्त पारी खेली जिसकी बदौलत टीम इंडिया ने एक बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया। महिला क्रिकेट टीम को वैसे भी टेस्ट मैच खेलने का मौका बहुत कम मिलता है मगर जब कभी भी मिलता है तो हमारी क्रिकेटर्स उसका जमकर लुफ्त उठाती है।

पहले दिन हमें सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना की जबरदस्त बल्लेबाजी के साथ-साथ कुछ ऐसा देखने को मिला जिसे देखकर शायद हर क्रिकेट प्रेमी खुश हो जाएगा। दरअसल तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरी पूनम राउत सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा का विकेट गिरने के बाद से स्मृति मंधाना के साथ मिलकर पारी को संभाल रही थी।

दोनों के बीच 100 रनों से भी अधिक की पार्टनरशिप हो चुकी थी और दोनों ही बहुत अच्छे लय में नजर आ रही थी। एक तरफ जहां स्मृति बड़े-बड़े शॉर्ट्स खेल रही थी तो वही पूनम संभलकर खेलते हुए रन बटोर रही थी। मगर रनों की गति को बढ़ाने के चक्कर में अच्छी बल्लेबाजी कर रही स्मृति पारी के 69वें ओवर में 127 रन पर आउट हो गई दोनों के बीच 102 रन की पार्टनरशिप भी टूट गई। इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरी टीम की कप्तान मिताली राज।

मिताली ने पूनम रावत के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया मगर इसके 10 ओवर बाद ही कुछ ऐसा हुआ जिसे हम स्पिरिट ऑफ द गेम की श्रेणी में सबसे ऊपर का दर्जा देने। दरअसल 81वें ओवर में ऑस्ट्रेलिया की ओर से गेंदबाजी करने आई बाएं हाथ की स्पिन गेंदबाज सोफी।

पूनम राउत इससे पहले सोफी को बहुत अच्छे से खेल रही थी मगर ओवर की पहली ही गेंद पर डिफेंसिव शॉट खेलते हुए गेंद उनके बल्ले के बाहरी किनारे को लेकर कीपर तक चली गई।

गेंदबाज ने अंपायर से अपील की मगर अंपायर ने नॉटआउट करार दिया जिसके बाद विकेटकीपर को भी लगा कि यह नॉट आउट है। मगर पूनम रावत को पता था कि बोल उनके बल्ले से लग चुका है और इसलिए उन्होंने बिना कुछ देखें पवेलियन की ओर जाना शुरू कर दिया। इसे देखकर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी भी हैरान रह गए। निसंदेह पूनम ने यहां स्पिरिट ऑफ द गेम का एक बेहतरीन उदाहरण पेश किया जिसकी तारीफ ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी भी करने लगे।