पिता के निधन के बाद 14 दिन कमरे में बंद रहे थे सिराज, बाहर थी पुलिस

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज फिलहाल शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। हाल ही में भारतीय टीम इंग्लैंड दौरे पर है इंग्लैंड में चल रही टेस्ट सीरीज में मोहम्मद सिराज ने 8 विकेट लेकर शानदार प्रदर्शन किया और टीम को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सिराज पिछले साल से पहले देश दुनिया के लिए एक अनजान चेहरा थे लेकिन पिछले साल नवंबर में ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर गई टीम इंडिया का हिस्सा सिराज ने ऑस्ट्रेलिया में भी शानदार प्रदर्शन किया और टीम को बॉक्सिंग डे टेस्ट में जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी जिसके चलते फिलहाल भारतीय टीम के एक स्थाई खिलाड़ी के रूप में उभर कर आए हैं।

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हो गया था पिता का निधन

पिछले साल नवंबर में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई थी जिसमें मोहम्मद सिराज भी भारतीय टीम का हिस्सा थे। पिछले 2 सालों में कोरोनावायरस की वजह से पूरी दुनिया को काफी नुकसान झेलना पड़ा है इसी के चलते जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया पहुंची तो करो ना फोटो कल के तहत है टीम को 14 दिन के लिए क्वॉरेंटाइन कर दिया गया।

टीम के सभी सदस्यों को और खिलाड़ियों को होटल के अलग-अलग कमरों में क्वॉरेंटाइन किया गया। इसी दौरान में सिराज के पिता का निधन हो गया यह बात जब सिराज को पता चले तो वह बहुत अधिक दुखी हो गए थे और सदमे में चले गए।

सिराज से किसी भी अन्य खिलाड़ी को मिलने नहीं दिया गया

मोहम्मद सिराज जब क्वॉरेंटाइन में थे तब पिता के निधन की खबर मिली इसके बाद टीम के अन्य खिलाड़ियों को भी यह खबर मिली तो सभी बहुत दुखी हो गए लेकिन सभी खिलाड़ी चाह कर भी सिराज से मिलने नहीं जा सकते थे क्योंकि करो ना प्रोटोकॉल के तहत आपस में मिलने की अनुमति नहीं दी गई थी। खिलाड़ी सिराज के कमरे में ना जाएं इसके लिए सभी के गेट के आगे पुलिस का पहरा दिया गया।

वीडियो कॉल के जरिए पूरे दिन करते थे सिराज से बातें

करुणा प्रोटोकॉल के कारण है जब खिलाड़ियों को सिराज से मिलने नहीं दिया गया तो सभी खिलाड़ी पूरे दिन से रात से वीडियो कॉल के जरिए बात करते रहते थे ताकि सिराज के दुख को कम किया जा सके बाकी खिलाड़ियों को यह भी डर था कि कहीं इतनी दुख की खबर सुनकर सिराज कोई गलत कदम ना उठा ले इसलिए सभी उन्हें सहारा दे रहे थे इसके बाद जब बॉक्सिंग डे टेस्ट शुरू हुआ तो सिराज ने बेहतरीन गेंदबाजी की और टीम को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।