जिस खिलाड़ी की वजह से विराट और कुंबले में हुआ था झगड़ा, क्या उसे मिलेगा रोहित की कप्तानी में मौका?

दोस्तों ऐसे को खिलाड़ी भारतीय टीम में शामिल हुए जो शुरुवात में कमाल का प्रदर्शन करके काफी मुकाम हासिल करने में कामयाब हुए लेकिन फिर बीच में अपने आउट ऑफ फॉर्म होने की वजह से टीम से बाहर हो गए या आगे जाकर उन खिलाड़ियों का कोई अता पता ही नही चला। और इन्ही में से एक कुलदीप यादव भी है।

जिनका आज कल भारतीय टीम में कुछ पता ही नही रहता, दोस्तो लेकिन इसके पहले ऐसा समय भी था, जब इन्हे भारतीय टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता था। लेकिन आज इस होनहार गेंदबाज को इस तरह से टीम से बाहर किया है, जैसे हम अपनी चाय में गिरी हुई मक्खी को चाय से बाहर फेंक देते है। दोस्तो आपको जानकर शायद हैरानी होगी, की जब भारतीय टीम के दिग्गज कप्तान एमएस धोनी में इंटरनेशनल क्रिकेट से सन्यास लिया था, उसके बाद से ही कुलदीप यादव का टीम से कुछ पता नहीं की वो कहा गए।

और इतना ही नहीं बल्कि ऐसा कहा जाता है, की धोनी के सन्यास लेने के बाद से कुलदीप के फॉर्म में निखार कम हो गई। और इसी के चलते न ही न्यूजीलैंड और न ही दक्षिण अफ्रीका के दौरे के लिए कुलदीप यादव को टीम में शामिल किया गया। और सबसे बड़ी बात ये है, की टी20 वर्ल्ड कप 2021 के लिए किसी में उनके बारे में सोचा तक नहीं। और अब इसी कुलदीप यादव ने एक बड़ा खुलासा किया है।

आकाश चौपड़ा से बातचीत के दौरान कुलदीप यादव ने बताया, की मुझे ये बात बिलकुल समझ नही आ रही की आखिरकार टीम मुझे चाहती क्या है? इस बात को समझ पाना मेरे बस के बाहर है, वर्ल्ड कप की टीम का चयन मात्र 2 महीने के प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा। भारतीय टीम के खिलाड़ियों को हमेशा ये बात बताई जाती है की आखिर उन्हे मैचों में मौका क्यों नहीं दिया जाता। लेकिन ये चीज आईपीएल में लागू नहीं है।

आगे कुलदीप में कहा, की केकेआर मुझे हमेशा से नजरंदाज करती आई। जब आपका किसी के साथ बातचीत न हो तो उसे समझना काफी मुश्किल होता है। और बहुत बार तो आपको ये तक पता नहीं चल पाता की आप खेल भी रहे है, या नहीं। इसके अलावा आपको ये तक पता नहीं होता की टीम आपसे क्या चाहती है।

दोस्तो आपको बता दे, की कई मैचों में आईपीएल केकेआर की तरफ से कुलदीप को सिर्फ बैठा हुआ ही देखा गया, और अब टीम उनकी जगह वरुण चक्रवती पर ज्यादा ध्यान देना पसंद करती है। दोस्तो आपको बता दे, की एक इंटरव्यू के दौरान कुलदीप में बताया था, की वो मैदान के अंदर और बाहर हमेशा धोनी द्वारा दी जाने वाली सलाहों को अक्सर कुलदीप याद करते है।

क्योंकि विकेट के पीछे से खड़े होकर धोनी द्वारा दी जाने वाली सलाह कुलदीप के लिए अक्सर काफी कारगर साबित होती थी, और इसी बीच कुलदीप ने धोनी के बारे में कहा, की मुझे अब भी उनकी सलाह काफी याद आती है। उनके पास बहुत ज्यादा अनुभव था, और विकेट के पीछे खड़े रहकर वो अक्सर हमे सलाह दिया करते थे। दोस्तो आपको शायद पता न हो तो आपको बता दे, की धोनी अक्सर विकेट के पीछे खड़े होकर गेंदबाजों को सलाह देते रहते थे। और इसका सबसे ज्यादा फायदा कुलदीप यादव को होता था।

लेकिन जैसे ही धोनी ने सन्यास लिया इसका सबसे मुश्किल दौर कुलदीप यादव का आया और उनका करियर लगातार अंधेरे में डूबता चला गया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो विराट कोहली और अनिल कुंबले के बीच झगड़ा कुलदीप यादव की वजह से हुआ था। साल 2017 में कंगारू टीम भारत के दौरे पर थी और तीसरे टेस्ट मैच में अनिल कुंबले चाहते थे कि कुलदीप यादव को टीम शामिल किया जाए लेकिन कोहली ने इसको लेकर ऐतराज जताया था।

हालांकि, तीसरे टेस्ट मैच के दौरान कोहली टीम का हिस्सा नहीं थे और टीम की कमान अजिंक्य रहाणे के हाथों में थी जिसमें कुलदीप यादव को मौका मिला था। यह फैसला कोहली को बिना बताए लिया गया था। कोहली चाहते थे, की कुलदीप की जगह टीम के अमित मिश्रा को जगह दी जाए। और रिपोर्ट के अनुसार ऐसा माना जाता है, की कोहली इस बात से भी काफी नाराज़ थे, की टीम के पूर्व कप्तान धोनी को ग्रेड ए में शामिल किया गया था।

आपको बताते चले, की कुलदीप ने लगभग 22 टी20 मुकाबले में 41 विकेट अपने नाम किए है। 65 वनडे मैचों में 107 विकेट उनके नाम पर है। वही आईपीएल के 45 मैचों में उन्होंने 40 विकेट अपने खाते में डाले है। और इन आंकड़ों को देख कर ये अनुमान लगाया जा सकता है, की कुलदीप के अंदर खेलने की काफी प्रतिभा भरी हुई थी। लेकिन अब सीमित ओवर के कप्तान रोहित शर्मा बन चुके है। और ऐसे में हम उम्मीद कर सकते है की कुलदीप वनडे और टी20 के दुबारा एक बार खेलते हुए नजर आ सकते है।