विराट कोहली ने मांगी माफी, कृपया मुझे बैन मत करो

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली मैं क्रिकेट के प्रति जुनून को तो आप सभी ने देखा ही है। लेकिन जब वह अपना आक्रामक रूप धारण करते हैं तो अपने सामने वाले खिलाड़ी को उनकी भाषा में जवाब देना भी उन्हें बहुत अच्छी तरह से आता है।

ऐसी यह घटना सामने आई जब मैच रेफरी ने विराट कोहली को गलत इशारे करते हुए देख कर उनको बुलाया था उसके बाद विराट कोहली रेफरी को सॉरी बोलते हुए उन से निवेदन भी किया था कि मुझे बेन ना करें।


एक रिपोर्ट के अनुसार पता चला है कि मैच रेफरी के साथ हुई अपनी बातचीत का खुलासा करते हुए उन्होंने प्रतिबंध न लगाने के लिए रेफरी से अनुरोध किया था। मैच के दौरान रेफरी श्रीलंका के रंजन मदुगले थे। विराट कोहली के माफी मांगने के बाद रेफरी ने उन पर कोई कार्यवाही नहीं की।


खबरों के अनुसार पता लगा है विराट कोहली में इस घटना का जिक्र करते हुए कहा की मैच रेफरी ने उससे अगले दिन उन्हें अपने पास बुलाया और पूछा कि कल बाउंड्री पर क्या हुआ था। मैंने मजाक में कहा कुछ नहीं। फिर उन्होंने अखबार दिखाते दिखाते हुए कहा कि यह देखो पहले पन्ने पर बड़ी तस्वीर जिसे देखकर मैंने कहा कि मुझे बहुत खेद है। कृपया मुझ पर बैन ना लगाएं।

मैच रेफरी बहुत अच्छे आदमी थे जो समझते थे कि एक युवा खिलाड़ी से जोश ही जोश में ऐसी गलतियां हो जाती है इसके बाद उन्होंने मुझे छोड़ दिया और कोई प्रतिबंध नहीं लगाया।


खबरों से पता चला है कि एक मैच में जब विराट कोहली सीमा रेखा पर खड़े थे तो कुछ दर्शक उन्हें परेशान कर रहे थे।

इतने में विराट कोहली को गुस्सा आया और उन्होंने अपनी मिडिल फिंगर दर्शको को दिखा दी। यह खबर अखबार में भी छपी जो काफी सुर्खियों का विषय रही। अगले दिन विराट कोहली को मैच रेफरी के सामने पेश होकर माफी मांगनी पड़ी। यह बात उस समय की है जब विराट कोहली ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आगाज ही किया था और उनको पता नहीं था कि ऐसी परिस्थिति का सामना कैसे किया जाता है।

लेकिन उसके बाद उन्होंने अपने अंदर बदलाव कि अब वह एक परिपक्व खिलाड़ियों की श्रेणी में आ गए हैं और जिसका उदाहरण अब हम मैदान में भी देख सकते है। विपक्षी खिलाड़ी जब विराट कोहली के साथ गलत हरकत करते हैं तो कोहली भी पलटकर उसी भाषा में जवाब देते हैं। उनके फैंस को भी उनका यह आक्रामक रूप ही पसंद आता है।