Bronze Medalist हॉकी प्लेयर विवेक सागर का वर्षो पुराना सपना पूरा होने जा रहा है

भारतीय राष्ट्रीय हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतकर पूरा देश का नाम रोशन किया हैं। हॉकी पहले से भारत में खेली जाने वाली लोकप्रिय स्पोर्ट में से एक हैं। भारतीय टीम ने 41 साल बाद ओलंपिक में इस साल पदक अपने नाम किया हैं।

भारतीय कांस्य पदक विजेता टीम के खिलाड़ी मध्यप्रदेश के विवेक सागर ने ओलंपिक मे टीम के साथ पदक जीतने के बाद अखबार से बात करते हुए कहा कि , ” मैंने भारत के लिए पदक जीता अब अपनी माँ के लिए आलीशान घर बनाऊँगा। “

आपको बता दूँ मध्यप्रदेश के चांदौन गांव के रहने वाले विवेक सागर के घर की छत सीमेंट व टीन की है , उससे बारिश में उनके घर में पानी टपकती है। उन्होंने कहा, ” वर्तमान में पूरा परिवार पिता रोहित प्रसाद, मां कमलादेवी, भाई विद्यासागर और बहन पूजा को सीमेंट और टीन की छत वाले इसी घर में रहना पड़ रहा है । लेकिन जल्द ही सभी परिजन भव्य घर में रह सकेंगे। “

विवेक ने बताया कि वह अपनी मां को तोहफा में आलीशान घर देना चाहता हैं। मध्यप्रदेश सरकार से मिलने वाली सम्मान राशि से वह अपनी माँ को नया घर गिफ्ट करेंगे। बता दूँ ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम के साथ कांस्य पदक जीतने वाले विवेक सागर को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने सम्मान के रूप में 1 करोड़ रुपए देने की घोषणा की है।

विवेक ने आगे कहा, ” मैं हमेशा हर जरूरतमंद खिलाड़ियों की मदद करूँगा ताकि किसी को भी मेरी तरह संगर्ष नहीं करना पड़े । वहीं उनके पिता ने बताया कि जब भी विवेक अपने गांव आते हैं तो अपने साथ दूसरे खिलाड़ियों के लिए हॉकी स्टिक वैगारा साथ लेकर आते हैं।

आपको बता दूँ मध्यप्रदेश के विवेक सागर का ये पहला ओलंपिक खेल था। उन्होंने इस ओलंपिक में भारतीय टीम के लिए एक गोल भी किया था। आपको बता दूँ विवेक सागर साल 2019 में अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ द्वारा राइजिंग स्टार ऑफ द ईयर चुना गया था।