इन 5 भारतीय खिलाड़ियों को प्रदर्शन के बाद भी कर दिया गया था टीम से बाहर !

भारतीय क्रिकेट टीम आज तीनों फॉर्मेट में सर्वश्रेष्ठ टीम में से एक है । भारत जैसे इस बड़े देश में काफ़ी सारे प्रतिभाशाली खिलाड़ी है और सबको टीम में जगह देना किसी भी कप्तान या फिर सेलेक्टर के लिए मुश्किल है । आज के इस लेख में हम भारतीय टीम के ऐसे 5 खिलाड़ियों के बारे में बात करने जा रहे हैं जिन्हे शानदार प्रदर्शन के बाद भी टीम से ड्रॉप कर दिया गया ।

1.अंबाती रायडू

इस सूची में सबसे पहला नाम है अंबाती रायडू का है। आपको बता दें अंबाती रायडू 2019 वर्ल्ड कप के एकादश में कुछ महीनों तक फिक्स खिलाड़ी माने जा रहे थे । उन्होने 2019 वर्ल्ड कप से पहले करीब 2 साल तक नंबर 4 पर बल्लेबाजी किया और कई सारे महत्वपूर्ण पारियां भी खेली थी । मगर उनका 2019 आईपीएल औसतन गया जिसके बाद उन्हें वर्ल्ड कप टीम से ड्रॉप कर दिया गया । अंबाती रायडू को टीम से ड्रॉप करने को लेकर बाद में काफ़ी विवाद भी हुआ था ।

2. मनोज तिवारी

मनोज तिवारी आज के समय क्रिकेट से दूर बंगाल की राजनीति में व्यस्त हैं । बताया जाता है बंगाल क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी में से एक मनोज तिवारी ने अपने आखिरी अंतरराष्ट्रीय वनडे सीरीज में शतक जड़ा था मगर उसके बाद उन्हें फिर कभी मौका नहीं मिला । मनोज तिवारी ने कई बार इसको लेकर अपनी दुख जाहिर की है ।

3. करुण नायर

कर्नाटक के इस बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के खिलाफ तिहरा शतक जड़कर खूब सुर्खियां बटोरी थीं । मगर उस तिहरा शतक के बाद इस खिलाड़ी को भारतीय टेस्ट टीम में ज्यादा मौका नहीं मिला और टीम से ड्रॉप कर दिया गए । टेस्ट टीम से ड्रॉप होने के बाद करुण नायर का प्रदर्शन घरेलू क्रिकेट में भी गिर गया और फिर एक बार उनकी टीम में वापसी नहीं हो सकी ।

4. युवराज सिंह

युवराज सिंह भारतीय क्रिकेट के एक दिग्गज खिलाड़ी है । उन्होंने 2007 और 2011 के जीत में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी । मगर 2011 के बाद कई बार उनको धोनी ने उनको नजरअंदाज किया और टीम से कई सालो तक ड्रॉप भी कर दिया था । जिसके चलते काफ़ी विवाद हुआ था ।

5. गौतम गंभीर

गौतम गंभीर का नाम सुनते ही हमें दोनों वर्ल्ड कप फाइनल का याद आ जाता है । वह भी इन खिलाड़ियों की सूची में शामिल हैं । उन्हें एमएस धोनी ने 2012 ऑस्ट्रेलिया सीरीज के बाद टीम से निकाल दिया था और शिखर धवन को टीम में जगह दिया जिसके चलते शुरू में काफ़ी विवाद हुआ था लेकिन समय के साथ शिखर धवन ने खुद को साबित भी कर दिखाया ।