क्यों किया बीसीसीआई ने शार्दुल ठाकुर को नजरंदाज? जाने सही वजह

मौजूदा इंग्लैंड बनाम भारत टेस्ट सीरीज में अगर कोई एक खिलाड़ी की सबसे जायदा चर्चा हो रही है तो वो है शार्दुल ठाकुर। सीरीज में खेले गए 3 मैचों में शार्दुल ने बल्ले से अजिंक्य रहाणे से भी जायदा रन और गेंद से रविंद्र जडेजा से भी जायदा विकेट चटकाए है और यही कारण है की लोग उनको एक परफेक्ट ऑल राउंडर के तौर पर देख रहे है।

ओवल के मैदान में खेले गए टेस्ट में शार्दुल ने दोनो ही पारियों में अर्धशतक जड़ा तो वहीं गेंद से भी जो रूट और रॉरी बर्न्स का अहम विकेट हासिल किया था। कई लोगों ने भारत के मैच जीतने के बाद कहा था की शार्दुल को ही मैन ऑफ द मैच का अवार्ड मिलना चाहिए पर ऐसा नहीं हुआ। ऐसे में क्या कारण हो सकता है की कल घोषित किए गए टी-20 विश्व कप की टीम में शार्दुल को रिजर्व प्लेयर के तौर पर लिया गया और मुख्य टीम में शामिल नहीं किया गया? देखते है।

टीम में चयनकर्ताओं ने 5 फिरकी गेंदबाजों को शामिल किया है। दुबई की पिच स्पिन के लिए बहुत अच्छी मानी जाती है और शायद यही कारण है की टीम में अक्षर पटेल को भी जगह मिली है। साथ ही अश्विन की सीमित ओवरों में वापसी भी चौकाने वाला रहा।

शार्दुल के नजरंदाज किए जाने की एक वजह यह भी ही सकती है की हार्दिक पांड्या, जो खुद एक अच्छे ऑल राउंडर है, के पास शार्दुल से जायदा अनुभव है और उन्होंने 2016 का टी-20 वर्ल्ड कप भी खेला था। च्यानकर्ताओं ने इसी वजह से शायद शार्दुल को मुख्य टीम में शामिल न करके रिजर्व प्लेयर की सूची में डाला है। आगामी आईपीएल में अगर शार्दुल चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से अच्छा प्रदर्शन करते है तो शायद उन्हें भी मुख्य टीम में शामिल होने का अवसर मिल सकता है।